फिल्म क्षेत्र के सभी कलाकारों और कारीगरों के हितों की रक्षा करने में भी सहायक होगा सिनेमैटोग्राफ (प्रमाणन) नियम, 2024

भारतीय फिल्म उद्योग दुनिया के सबसे बड़े और सबसे अधिक वैश्वीकृत उद्योगों में से एक है, जो हर साल 40 से अधिक भाषाओं में 3,000 से अधिक फिल्मों का निर्माण करता है।

 

 पारदर्शिताव्यापार सुगमता और निजता के उल्लंघन के खतरे से सुरक्षा के साथ भारतीय फिल्म उद्योग का सशक्तिकरणभारत में सामग्री निर्माण इको-सिस्टम के विकास में काफी मदद करेगा। यह फिल्म क्षेत्र के सभी कलाकारों और कारीगरों के हितों की रक्षा करने में भी सहायक होगा। इस दृष्टि से सिनेमैटोग्राफ अधिनियम का ऐतिहासिक संशोधन 40 वर्षों के बाद 2023 में लाया गया था और अब इसे दुरुस्त किए गए सिनेमैटोग्राफ (प्रमाणन) नियम2024 के साथ पूरी तरह से सशक्त बनाया गया है।

सिनेमैटोग्राफ (प्रमाणन) नियम2024:

इन नए नियमों का उद्देश्य फिल्म क्षेत्र में उभरती प्रौद्योगिकियों और प्रगति के साथ तालमेल रखते हुए, डिजिटल युग के लिए फिल्म प्रमाणन प्रक्रिया को सुव्यवस्थित और आधुनिक बनाना है। मंत्रालय और सीबीएफसी ने फिल्म निर्माताओं, सिनेमा मालिकों, दिव्यांगों के अधिकार संबंधी  संगठनों, गैर सरकारी संगठनों, फिल्म उद्योग निकायों, आम जनता और अन्य हितधारकों के साथ व्यापक परामर्श किया है, ताकि व्यापक तथा समावेशी दृष्टिकोण सुनिश्चित किया जा सके। यह लक्ष्य हमारे माननीय प्रधानमंत्री के शब्दों में “सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास” में दृष्टिगोचर होता है।

सिनेमैटोग्राफ (प्रमाणन) नियम, 2024 में शामिल सुधारों के प्रमुख विशेषताएं:

  • ऑनलाइन प्रमाणन प्रक्रियाओं को अपनाने के साथ इसे पूरी तरह से संरेखित करने के लिए नियमों में व्यापक संशोधन किया गया है, जो फिल्म उद्योग के लिए बढ़ी हुई पारदर्शिता, दक्षता और व्यापार सुगमता सुनिश्चित करेगा।
  • फिल्म प्रमाणन की प्रक्रिया के लिए समय-सीमा में कमी और काम करने के समय में लगने वाले विलम्ब को खत्म करने के लिए पूर्ण डिजिटल प्रक्रियाओं को अपनाना।
  • समय-समय पर इस संबंध में जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, फिल्मों/फीचर फिल्मों में प्रमाणन के लिए पहुंच संबंधी विशेषताएं होनी चाहिए, ताकि इसमें दिव्यांगजनों को भी शामिल किया जा सके।
  • आयु-आधारित प्रमाणीकरण: मौजूदा यूए श्रेणी को तीन आयु-आधारित श्रेणियों में उप-विभाजित करके प्रमाणन की आयु आधारित श्रेणियों को शुरू किया जा रहा है, यानी बारह वर्ष के बजाय सात वर्ष (यूए 7+), तेरह वर्ष (यूए 13+), और सोलह वर्ष (यूए 16+)। ये आयु आधारित मार्कर केवल अनुशंसात्मक होंगे, जो माता-पिता या अभिभावकों के लिए इस बात पर विचार करने के लिए होंगे कि क्या उनके बच्चों को ऐसी फिल्म देखनी चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए कि युवा दर्शकों को आयु-उपयुक्त सामग्री उपलब्ध हो, यूए मार्करों के साथ आयु-आधारित प्रमाणन प्रणाली लागू की जाएगी। यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और उपभोक्ता की पसंद के सिद्धांतों के साथ बच्चों जैसे संवेदनशील दर्शकों की सुरक्षा की आवश्यकता को संतुलित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।
  • सीबीएफसी बोर्ड और सीबीएफसी के सलाहकार पैनलों में महिलाओं का अधिक प्रतिनिधित्व, जहां यह निर्धारित है कि बोर्ड में एक तिहाई सदस्य महिलाएं होंगी और अधिमानतः आधी महिलाएं होंगी।
  • पारदर्शिता बढ़ाने और सभी विवेकाधिकारों को दूर करने के लिए फिल्मों की प्राथमिकता स्क्रीनिंग की प्रणाली। पूर्व प्रतिबद्धताओं के कारण कभी-कभी फिल्म निर्माताओं को महसूस होता है कि उनकी फिल्म जल्द रिलीज कर दी जाये। इसी को मद्देनजर रखते हुये व्यापार सुगमता के तहत प्रमाणन के लिए फिल्म की स्क्रीनिंग में तेजी लाने के वास्ते प्राथमिकता स्क्रीनिंग का प्रावधान किया जा रहा है।
  • प्रमाणपत्रों की स्थायी वैधता: केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के प्रमाणपत्रों की स्थायी वैधता के लिए केवल 10 वर्षों के लिए प्रमाणपत्र की वैधता पर प्रतिबंध को हटाना।
  • टेलीविज़न के लिए फ़िल्म की श्रेणी में परिवर्तन: टेलीविज़न प्रसारण के लिए संपादित फ़िल्म का पुन:प्रमाणीकरण, क्योंकि केवल अप्रतिबंधित सार्वजनिक प्रदर्शनी श्रेणी की फ़िल्में ही टेलीविज़न पर दिखाई जा सकती हैं।
See also  एक नाइजीरियाई नागरिक सहित दो व्यक्ति गिरफ्तार

सिद्धांत नियमों को पहली बार सरकार द्वारा 1983 में अधिसूचित किया गया था और समय-समय पर इनमें संशोधन किया गया है। बहरहाल, पिछले 40 वर्षों से फिल्म प्रौद्योगिकी, दर्शकों की जनसांख्यिकी, सामग्री वितरण विधियों में महत्वपूर्ण प्रगति को देखते हुए, हमारे फिल्म उद्योग की लगातार बढ़ती जरूरतों को बेहतर ढंग से पूरा करने के लिए आमूल परिवर्तनों के साथ नियमों का नया सेट पेश किया जा रहा है।

सरकार ने फिल्म प्रमाणन से संबंधित मुद्दों को व्यापक रूप से संबोधित करने के लिए लगभग 40 वर्षों की अवधि के बाद पिछले साल सिनेमैटोग्राफ अधिनियम, 1952 में संशोधन किया था। नए सिनेमैटोग्राफ (प्रमाणन) नियम, 2024 को अधिसूचित करना प्रमाणन प्रक्रिया को सरल, अधिक समसामयिक और सर्वोत्तम वैश्विक व्यवहारों के अनुरूप बनाना है।

ये सभी नियम भारतीय सिनेमा की निरंतर वृद्धि और सफलता का समर्थन करते हुए अधिक कुशल, पारदर्शी और समावेशी फिल्म प्रमाणन प्रक्रिया को बढ़ावा देंगे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA


Enable Notifications OK No thanks